Trending

Good news : अधिवक्‍ता सौरभ कृपाल हो सकते हैं देश के पहले Gay Judge

उच्चतम न्यायालय (Supreme court) के कोलेजियम ने अधिवक्ता सौरभ कृपाल को दिल्ली उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त करने के प्रस्ताव को दी मंजूरी

नई दिल्ली। देश में समलैंगिता को लेकर भेदभाव अब दूर होने लगा है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण आने वाले समय में न्‍यायपालिका मे देखने को मिलेगा।

प्रधान न्यायाधीश एनवी रमण की अध्यक्षता वाले उच्चतम न्यायालय (Supreme court) के कोलेजियम ने अधिवक्ता सौरभ कृपाल को दिल्ली उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। ऐसा होने पर पह देश के पहले समलैं‍गिक न्यायाधीश (Gay judge) होंगे।

हलांकि केंद्र सरकार ने कृपाल की कथित यौन अभिरुचि का हवाला देते हुए उनकी सिफारिश के खिलाफ आपत्ति उठाई थी। जबकि उससे पहले सौरभ को 2017 में उस समय की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल के नेतृत्व में दिल्ली उच्च न्यायालय के कॉलेजियम द्वारा पदोन्नत करने की सिफारिश की गई थी। इस सिफारिश के बाद ही सुप्रीम कोर्ट ने इस प्रस्‍ताव को मंजूरी दी है।

पहली ट्रांसजेंडर जज बन चुकी हैं जोयिता मंडल

न्‍यायपालिका में इससे पहले भी लैंगिक समानता के बेमिसाल उदाहरण देखने को मिले हैं। 21 साल की जोयिता मंडल देश की पहली ट्रांसजेंडर जज बन चुकी हैं। जोयिता की नियुक्ति पश्चिम बंगाल के इस्लामपुर की लोक अदालत में है।

Tags
Back to top button
Close