Trending

बारिश का कहर : Uttarakhand में 42 की मौत, UP में भी बाढ़ के हालात

उत्‍तराखंड में मरने वालों में UP व बिहार के मजदूर भी शामिल, प्रधानमंत्री ने सीएम पुष्‍कर से लिया हालात का जायजा

देहरादून/लखनऊ। उत्तराखंड (Uttarakhand) में मंगलवार को भारी बारिश और भूस्खलन (Landslide) से 42 लोगों की जान चली गई। वहीं उत्‍तर प्रदेश में भी बाढ़ के हालात हैं। उत्‍तराखंड के मृतकों में 14 उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूर हैं।

मंगलवार को उत्‍तराखंड में बारिश का कहर बरपा। नैनीताल के रामगढ़ के झुतिया, सुनका ग्रामसभा में 9 मजदूर घर में ही जिंदा दफन हो गए। इसी गांव में घर के मलबे में दबकर पति-पत्नी व बेटे की जान चली गई।

दोषापानी में 5 मजदूरों की मौत हो गई। वहीं, नैनीताल के क्वारब में 2, कैंचीधाम के पास 2, बोहराकोट में 2, ज्योलीकोट में एक और भीमताल के खुटानी में हल्दूचौड़ निवासी शिक्षक के बेटे की मलबे में दबने से मौत हो गयी।

UP के कई जिलों में बाढ़ के हालात

उप्र के बरेली मंडल के लखीमपुर खीरी, बदायूं व पीलीभीत में नदियां उफान पर हैं, ग्रामीणों को अलर्ट कर दिया गया है। सुरक्षित स्‍थान पर शरण लेने की अपील की गई है। धान की फसल जलमग्‍न हो गई है। वहीं, कानपुर व आसपास जिले फर्रुखाबाद, कन्नौज समेत पूरी आलू बेल्ट में भी बारिश ने तबाही मचाई है।

इधर, फतेहपुर के कसरांव गांव में पक्की दीवार गिरने से  दो महिलाएं दब गईं, दोनों की मौत गयी। इटावा के गांव रेवाड़ी में मकान गिरने से पूरा परिवार मलबे में दय गया। जिसमें चार साल की बच्ची की मौत हो गई।

पीएम ने मुख्‍यमंत्री से की बात

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra modi) ने मुख्यमंत्री (Chief minister) पुष्कर सिंह धामी से फोन पर राज्य में बाढ़ के राहत व बचाव कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने केंद्रीय एजेंसियों को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए। सीएम ने आपदा में जान गंवाने वालों के आश्रितों को चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।

Tags
Back to top button
Close